भाभी की बहन की चुदाई से निकाली चूत की मलाई

Bhabhi ki bahan ki chudai se nikali chut ki malai:

दोस्तों मैं आप सभी को मेरी ज़िन्दगी की एक सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ मुझे पूरा भरोसा है की आप सभी को मेरी यह कहानी पढने में बहुत मजा आयगा और बहुत अच्छा भी लगेगा | दोस्तों अब मैं अपनी कहानी पे आता हूँ |

दोस्तों मैं गुजरात से हूँ और मेरा नाम अभिषेक है और मैं 25 साल का हूँ | मेरी लम्बाई 5 फुट है यानियो की औसत है | दोस्तों मेरे घर पर मैं और मेरे मम्मी पापा और मेरे बड़े भैया और भाभी सब साथ रहते है |

दोस्तों यह कहानी मेरे भैया की शादी से शुरू होती है | दोस्तों जब मेरे बड़े भैया की शादी पक्की हुई थी | तो मेरी भाभी के घर से मेरे भैया को देखने के लिए उस परिवार के बहुत से लोग आय हुए थे और उन सभी लोगे के साथ मेरे भैया को देखने के लिए मेरी भाभी की छोटी बहन भी आई हुई थी | दोस्तों जब मुझे पता चला की मेरे भैया को देखने के लिए मेरी भाभी की छोटी बहन भी आई है तो फिर मैंने उसी समय सभी काम छोड़ के भाभी की बहन को देखने गया | फिर जेसे ही मैंने जाकर भाभी की बहन को देखा तो मेरे होश ही उड़ गए थे | वो दिखने मैं इतनी सुंदर और सेक्सी थी की मुझे ऐसा लग रहा था की कही मैं सपना तो नहीं देख रहा | मैं उसे देखने के बाद इतना खुश हो गया की ख़ुशी के मारे मरा जा रहा था | मुझे वो बहुत अच्छी लगने लगी फिर उसके बाद जब वो मेरे भैया से मिलने आई तब मैं भी अपने भैया के साथ में ही था | फिर वो मेरे भैया से बात करने लगी वो जब मेरे भैया से बात कर रही थी तो मैं उसे ही देख रहा था | अन्दर से मैं बहुत खुश हो रहा था और फिर उसके बाद भैया ने मुझे भाभी की बहन से मिलाया और हम दोनों की बात करवाई | वो मुझे देख कर स्माइल कर रही थी और मैं भी उसे देख कर स्माइल कर रहा था | फिर उसने मुझसे बात की और मेरा नाम पूछा फिर मैंने भी उससे उसका नाम पूछा और उसका नाम एकता था | उससे बात करके मुझे बहुत मजा आ रहा था और ख़ुशी भी हो रही थी | फिर उसके बाद वो मुझसे बात करके चली गई | और फिर उसके बाद वो सभी लोग मेरे भैया को देख कर चले गए |

फिर उसके 15 दिन बाद मेरे भैया की शादी होने वाली थी | मैं भैया की शादी को लेकर बहुत खुश था और भैया की शादी के दिन का इन्तजार कर रहा था | फिर 15 दिन ऐसे निकल गए कि पता ही नहीं चला और फिर उसके बाद मेरे भैया की बरात जानी थी | शादी की पूरी तैयारी हो चुकी थी | फिर उसके बाद हमने बारात लेकर सबको बस में बैठाया और निकल पड़े भाभी के गाँव | जब हम लोग भैया की बरात लेकर भाभी के घर पहुचे तो बरात के स्वागत के लिए भाभी के घर के सभी लोग खड़े हुए थे और भाभी की बहन एकता भी स्वागत के लिए खड़ी थी और वो बहुत सुंदर लग रही थी और जेसे ही मैंने उसे देखा तो वो मुझे देख मर मुस्कुरा रही थी | मैं उस समय बहुत खुश हुआ कि चलो कुछ तो हो ही सकता है | मुझे तो ऐसा लग रहा था की मैं कितनी जल्दी उससे मिलूं फिर उसके बाद शादी होने लगी……एकता अपनी दीदी को लेकर आ रही थी जय माला के लिए | फिर जयमाला होने के बाद मैं एकता से मिला और बहुत बातें की …एकता मुझसे बहुत बातें कर रही थी | हम दोनों की फ्रेंडशिप हो गई थी | फिर मैंने एकता से उसका मोबाइल नंबर लिया और फिर एकता ने मुझे कहा कि अब मैं ज़रा काम देख लूँ फिर आती हूँ | ….मैं पूरी रात शादी मैं एकता को लाइन मरता रहा | मैं उसे देखा ही जा रहा था एकता भी मुझे बहुत देख रही थी और देखकर स्माइल कर रही थी | फिर उसके बाद शादी हो गई और सुबह हो गई और फिर भाभी को लेकर हम अपने घर आ गए | दोस्तों सबसे ख़ुशी की बात तो यह थी की भाभी के साथ एकता भी कुछ दिनों के लिए हमारे यहाँ आई हुई थी | अब मेरे भैया की शादी हो चुकी थी और एकता भी हमारे घर मैं थी | मैं भैया से पूछ कर रोज एकता को घुमाने ले जाता था | एकता ज़ब भी मेरे साथ घूमने जाती थी तो वो बहुत सेक्सी लगती थी | उसे देख कर मेरा लंड खड़ा हो जाता था और चोदने का मन करने लगता था | एकता के दूध बहुत मस्त थे और उसके होट इतने लाल थे कि बस उन्हें देख के ऐसा लगता था की उसके होटो को अपने होटो से चूमता रहूँ | मुझे एकता को चोदने का बहुत मन कर रहा था वो जब भी मेरे सामने आती थी तो उसे देखकर मेरा लंड खड़ा हो जाता था और दर्द देने लगता था | हम दोनों जब घूमने जाते थे तो बहुत मस्ती करते थे और बात भी और हम दोनों एक दूसरे से बहुत मजाक करते थे | फिर जब मैं दूसरे दिन एकता को घुमाने ले गया तो मने मजाक मजाक मैं एकता से कह दिया ….कि एकता मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ और मैं भी तुमसे शादी करना चाहता हूँ | ….यह बात सुनकर एकता शर्मा गयी और मुझसे कहा रियली. | .तो फिर उसके बाद मैं एकता से बोला हाँ रियली और मैं उसे समय एकता को पकड़ कर किस करने लगा | मेरे किस करने के बाद एकता ने मुझसे कुछ नहीं कहा | फिर एकता से मैंने जसे ही कहा क्या हुआ एकता… तो उसने भी मुझे पकड़ कर किस कर लिया और स्माइल करने लगी …..मैं तो हेरान हो गया था | ……उस समय मेरा लंड खड़ा हो चुका था और मुझे एकता को चोदने का मन कर रहा था | मुझसे बिलकुल रहा नहीं जा रहा था | फिर मैंने एकता से दूसरी जगह घुमने जाने के लिए कहा | उस दिन मैं अपने भैया की कार लेकर घूमने आया था | मुझसे बिलकुल कंट्रोल नहीं हो रहा था और एकता को कार चलाने मैं बहुत मजा आ रहा था वो बहुत खुश हो गई थी | फिर उसके बाद सीधे मैंने कार साइड मैं रोकी और एकता को किस करने लगा और उसके दूध दबाने लगा और फिर उसे कार की सीट में लेटा कर उसके कपडे उतार दिए और एकता से लिपट गया और उसके दूध पीने लगा और उसके होटो को चूमने लगा | फिर एकता मुझसे कहने लगी अभिषेक क्या कर रहे हो …..मत करो ऐसा अभी ….लकिन मुझे तो चोदना था | फिर मैंने एकता की गांड मैं ऊँगली डाली एकता आःह आह्ह ऊउह्ह उह्ह करने लगी और फिर उसे भी चुदने का जोश चढ़ गया और एकता भी मुझसे लिपट गई | फिर मैंने अपने लंड को निकाला और सीधे एकता को चोदने लगा | एकता बहुत जोर जोर से चिल्ला रही थी आःह आःह ऊहह ऊह्ह कर रही थी | मुझे एकता को चोदने में बहुत मजा आ रहा था | मैं अलग अलग तरीके से एकता को चोदे जा रहहा था | एकता को भी बहुत मजा आ रहा था वो आःह आह्ह ऊउहह  ऊह्ह करे जा रही थी और मुझे तो एकता के दूध पीने में भी बहुत मजा आ रहा था एकता के दूध बहुत मस्त थे और बहुत बड़े बड़े भी थे | मैं एकता को बहुत चोद रहा था और काफी समय हो गया था | एकता को चोदते चोदते भैया का फ़ोन आया कहा हो तुम दोनों जल्दी घर आओ …..फिर उसके बाद एकता चुदने के बाद बहुत थक गयी और मुझसे आई लव यू कहने लगी | मैं भी उसे आई लव यू टू बेबी कहा और फिर हम दोनों घर चले गए | जब हम दोनों घर पहुंचे तो भैया ने हम दोनों से पुछा कि आज इतनी लेट क्यों हो गए तो हम दोनों ने कार पंचर हो जाने का बहाना बना दिया | …….फिर उसके बाद दूसरे दिन एकता अपने घर चली गयी | लकिन फिर भी हम दोनों मोबाइल पर एक दूसरे से बात करते रहते थे और जब भी एकता मेरे यहाँ आती थी अपनी दीदी के पास तो मैं उसे घुमाने ले जाने के बहाने उसे चोदता रहता था | ये कई दिनों तक चलता रहा फिर एक दिन मैंने उसे घर पर ही चोदने का मन बनाया और चालू किया | जैसे ही मैंने उसकी चूत में अपना लंड घुसाया भाभी ने हमे देख लिया और कहने लगी क्या कर रहे हो तुम दोनों | हम लोग शर्म से पानी पानी हो गए |

भाभी ने ये बात भैया को बता दी और भैया न देरी न करते हुए हमारी शादी करवा दी क्यूंकि एकता माँ बनने वाली थी और अगर नहीं करवाते तो पूरे गाँव में उनकी बदनामी हो जाती | तो दोस्तों, ये थी मेरी कहानी | आशा है आप लोगों को पसंद आई होगी | आप लोग अपनी अपनी राय कमेंट करके जरुर दीजियेगा |


Comments are closed.