भाभी के कपड़ो की चुदाई भाग २

Bhabhi Ke Kapdo Ki Chudai Part 2 : फिर में अंदर गया, वहाँ भाभी के कोई कपड़े नहीं थे। अब में समझ गया था कि उनके सब कपड़े अलमारी में है और अलमारी लॉक थी। फिर मैंने सोचा कि पहले एग्जॉम दे लूँ फिर मस्ती करूँगा। फिर 2-3 दिन में मेरे पेपर ख़त्म हो गये और जब लास्ट पेपर हुआ तो में सीधे घर आया और दरवाजा अंदर से लॉक कर दिया। फिर मैंने अलमारी की ड्यूप्लिकेट चाबी निकाली और भाभी के रूम में गया। फिर मैंने अलमारी के छेद में चाबी डाली और चाबी घुमाई तो अलमारी का लॉक खुल गया। फिर मैंने अलमारी खोली तो में ऐसे खुश हुआ जैसे मुझे कोई खजाना हाथ लग गया हो। फिर मैंने अलमारी खोली तो वहाँ 5 खाने थे, अब एक खाने में उनके आने जाने की साड़ी टकी थी और एक खाने में भैया के कपड़े टके थे। फिर मैंने नीचे वाले खाने में देखा तो भाभी के घर में पहने वाले कपड़े रखे थे। फिर मैंने उनकी साड़ी बाहर निकाली तो उसके अंदर से ब्लाउज पेटीकोट बाहर निकाला।

फिर मैंने देखा कि भाभी के ब्लाउज पर अंडरआर्म्स की जगह पर उनके पसीने के निशान थे, अब में उनको चाटने लगा था। फिर मैंने उनका पेटीकोट जहाँ उनकी कमर आती है वहाँ चारो तरफ से चाटा। फिर में उनके पेटीकोट का नाड़ा अपने मुँह में लेने लगा। अब मुझे बहुत मजा आ रहा था, फिर मैंने अलमारी के अंदर हाथ डाला तो मैंने देखा कि वहाँ एक थैली रखी थी। फिर मैंने उस थैली को बाहर निकाला और खोला तो मुझे उसके अंदर भाभी की थोड़ी गीली ब्रा पेंटी मिली। अब में समझ गया कि भाभी ने नहाने के बाद इन्हें बिना धोए इसमें रख दिया है। फिर में उनकी ब्रा को सुखाकर उनकी ब्रा के दोनों कपो को चाटने लगा, अब मुझे उसमें से दूध की महक आ रही थी। फिर मैंने उनकी पेंटी ली और उनकी चूत की जगह से चाटने लगा, अब मुझे उनकी पेंटी का टेस्ट बहुत अच्छा लग रहा था।

फिर में अलमारी के हर खाने को देखने लगा, उनमें से 2 खानो में कुछ भी नहीं था। फिर मैंने सबसे नीचे वाले खाने में हाथ डाला तो मुझे उनकी एक ब्रा हाथ लगी। अब पूरा चैक करने के बाद मेरे हाथ में उनकी 3-4 ब्रा और पेंटी थी। फिर मैंने मेरे कपड़े उतार दिए और सोच लिया कि जब तक भैया, भाभी नहीं आएगें में भाभी की ब्रा पेंटी यूज़ करूँगा। फिर मैंने ऊपर वाले खाने में देखा तो वहाँ मुझे एक बॉक्स मिला। फिर मैंने उसे खोला तो उसमें ब्लू फिल्म और कंडोम रखे थे, फिर मैंने कंडोम निकाल लिया और सोचा कि दूसरा ला कर रख दूँगा। फिर मैंने कंडोम अपने लंड पर पहन लिया और फिर मैंने बीच वाले खाने को देखा तो उसमें भाभी के सामान रखे थे, उसमें उनके एम.सी. वाले पेड भी थे। फिर मैंने उनकी रेज़र से अपने लंड के बाल काटे और उसमें उनका साबुन का बॉक्स भी रखा था, एक बार में ग़लती से उनके साबुन से नहा लिया तो उन्होंने बहुत गुस्सा किया था मेरे साबुन से मत नहाया करो। फिर मैंने सोचा कि आज अच्छा मौका है। फिर में उनका साबुन बाथरूम में ले गया और उनके कपड़ो के अंदर मुठ मारने लगा और फिर वीर्य निकलने के बाद मैंने अपना पानी साबुन पर डाल दिया।

फिर मैंने साबुन से अपने लंड को धोया और अब मेरे लंड पर एकदम चमक आ गयी थी। फिर मैंने उनका पेटीकोट, ब्रा, पेंटी को पहना और ऊपर उनकी मेक्सी पहनी और फिर ब्लू फिल्म की सी.डी चलाकर देखने लगा और साथ में मेक्सी के ऊपर से ही मुठ मारने लगा। अब मेरा थोड़ा माल मेक्सी पर भी लग गया था, अब में रोज़ उनकी मेक्सी पहनकर ही टॉयलेट जाता था और उनकी ब्रा, पेंटी में ही मुठ मारता था। अब रात को में उनके बेडरूम में ही सोता था, फिर में उनके और भाभी के बारे में सोचता था कि भाभी इसी बेड पर चुदवाती है, इसके बाद मैंने 7 दिनों तक भाभी की ब्रा, पेंटी में जमकर मुठ मारा और खूब मज़े किए ।।

धन्यवाद …


Comments are closed.