बहुत बड़ी चुदक्कड़ हूँ मैं

Bahut badi chudakkad hoon mai:

sex stories in hindi

हाय गाइस, कैसे हैं आप सब ? मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सब अच्छे होंगे | आप सब को मेरी रसीली चूत की तरफ से टपकता हुआ सलाम | मेरा नाम सानिया है और मैं सदर की रहने वाली हूँ | मेरी उम्र बत्तीस साल है और मैं एक शादीशुदा महिला हूँ | मैं दिखने में गोरी हूँ और मेरी हाईट पांच फुट पांच इंच है | मेरा बदन बहुत ही सेक्सी है क्यूंकि मैं मोटी नहीं हूँ और मेरा मम्मो का साइज़ बड़ा है और मेरे चूतड गोल और बड़े हैं | जब भी मैं चलती हूँ तो मेरे चूतड़ मटक मटक कर मार्च पास करते हैं | गाइस मैं इस साईट की रोजाना पाठक हूँ और मुझे इस साईट कि सभी चुदाई की कहानियां अच्छी लगती है और मैं सारी कहानियां बड़े ही मन के साथ पढ़ती हूँ | पर मुझे मौका नहीं मिल पा रहा था कि आप लोगो के समक्ष आपनी कहानी पेश करु | आज जो मैं आप लोगो के लिए अपनी कहानी लिखने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी तथा मेरे जीवन की एक दम सच्ची घटना है | मैं आशा करती हूँ कि आप सब को मेरी कहानी पढने में मजा भी आयेगा और आप सब उत्तेजित भी हो जाओगे | तो अब मैं आप सब का समय नहीं बर्बाद करते हुए अपनी कहानी लिखना चालू करती हूँ |

ये घटना कुछ समय पहले की है | मेरे घर में मेरा पति और मेरे दो छोटे बेटे रहते हैं | मैं शुरू से ही चुदक्कड़ रही हूँ और मुझे जब भी मौका मिलता है जिससे भी मौका मिलता है मैं अपनी चूत की पूर्ती कर लेटी हूँ | मुझे बस लंड से मतलब रहता है न कि लंड वालो से | मैं जॉब भी करती हूँ और मुझे जीन्स स्कर्ट ये सब पहनना बहुत पसंद है | मेरा पति एक नंबर का झान्टू है | उसके साथ इतनी खूबसूरत बीवी है लेकिन भोसड़ी वाले को चुदाई करने में परेशानी है | इतनी जल्दी चुदाई करते हुए झड़ जाता है कि खुद तो थक कर सो जाता है लेकिन मेरी चूत जको प्यासा छोड़ जाता है | उसी दिन से मैंने ठान लिया था कि तेरी माँ का भोसड़ा | अब मैं किसी से भी अपनी चूत चुदवा लूंगी तेरी गांड में दम है तो जो उखाड़ते बने उखाड़ ले | वो बक्चोद साला तब भी कुछ नहीं कर पाटा | मैंने ट्रेन में , हॉस्टल में , स्कूल में , कॉलेज में, होटल में, जंगले में , जहाँ भी मौका मिला है मैंने बड़े ही आराम से अपनी चूत का ध्यान रखा है | जब  भी मैं किसी हेंडसम लड़के को देखती हूँ तो मेरी चूत अपना रस निकलने लगती है | फिर मैं ही पहल करती हूँ और उस शक्श को मनाती हूँ कि मुझे चोदो | जिसके पास जगह नहीं रहती उसे मैं अपना नंबर दे देती हूँ और जिसके पास जगह का जुगाड़ रहता है उसे अपनी टाँगे खोल कर उसके लंड का स्वागत करती हूँ |

जहाँ पर मैं जॉब करती हूँ वह पर एक लड़का काम करता है जिसका नाम सूरज है और वो दिखने में बहुत ही हेंडसम है और उसकी कदकाठी भी बहुत अच्छी है | वो मुझे रोज ही लाइन मारा करता था और हम फोन पर भी बात किया करते थे | मैं भी उससे कभी कभी चुदाई की बात कर के उसे उत्तेजित कर देती थी | वो मुझसे हर बार कहता कि मुझे आपको चोदना है आपकी चूत चटना है और आपके दूध पीना है | मैं हर बार उससे ये कहती कि पहले अपना लंड दिखा | लेकिन वो अपना लंड नहीं दिखाता था इसलिए मैं उसे हरदम मना कर देती थी | एक रात उसने अपना लंड दिखाया तो मैं खुश हो गई और अगले ही दिन उसने मुझे फ़ोन कर के अपने घर आने को कहा तो मैंने भी उस दिन अपनी चूत को सुन्दर बनाने के लिए वी-वाश से अपनी चूत को साफ किया और अपनी झांटो को भी बना कर अपनी चूत को एक सुन्दर रानी बना दिया | फिर मैं जब उसके घर गई तो उसने मुझे दबोच लिया और मेरे मम्मों को जोर जोर से मसलने लगा | मैं भी यही चाहती थी इसलिए मैंने उसका कोई विरोध नहीं किया | उसके बाद उसने मुझे अपनी तरफ घुमा लिया और मेरे होंठ से अपने होंठ को लगा कर मेरे होंठ को चूसने लगा | मुझे ये एहसास अच्छा लग रहा था तो मैंने भी उसका पूरा साथ दिया उसके होंठ को चूसने लगी | वो मेरे होंठ को चूसते हुए मेरे चूतड से खेल रहा था और मैं उसके होंठ को चूसते हुए उसके चेहरे को सहला रही थी | हम दोनों ने लगभग दस मिनट तक एक दुसरे के होंठ के रस को पिया | फिर उसने मेरे शर्ट के बटन को खोल दिया और उतार दिया और मेरे मम्मों को मसलने लगा तो मेरे मुंह से आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिस्कारियां निकलने लगी | उसके बाद उसने मेरे ब्रा को भी उतार कर मुझे नंगी कर दिया और मेरे एक दूध को अपने मुंह मे ले कर चूसने लगा और दुसरे को दबाने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसे सिर पर हाँथ फेरने लगी | फिर वो मेरे दुसरे दूध को मुंह में ले कर चूसने लगा और दुसरे को दबाने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | फिर वो मेरे दोनों दूध को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा जोर जोर से मसलते हुए और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे ले रही थी |

फिर उसने मेरे जीन्स को भी उतार दिया और फिर पेंटी भी उतार कर मुझे नंगी कर दिया | उसके बाद उसने मुझे लेटा कर मेरी टांगो को फैला कर मेरी चूत को चाटने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | वो मेरी चूत को चाटते चाटते मेरी चूत को ऊँगली से चोद भी रहा था और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी चूत को उसके मुंह से दबा रही थी | कुछ देर तक चूत चुसाई के बाद मैंने उसके टी-शर्ट को उतार दिया और फिर उसकी छाती पर हाँथ फेरते हुए सहलाने लगी | फिर मैंने उसके जीन्स को भी उतार कर उसे बस अंडरवियर में कर दी | उसके लंड को अंडरवियर से सहलाने के बाद मैंने उसकी अंडरवियर को भी उतार दी और उसे भी नंगा कर दिया | फिर मैं उसके लंड पर अपनी जीभ से चाट कर सहलाने लगी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगा |

मैं उसके लंड को जीभ से अच्छे से हर तरफ घुमा रही थी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे मम्मों को मसलने लगा | फिर मैं उसके लंड को अपने मुंह में ले कर सुपाड़े को चूसने लगी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे निप्पलस को खींचने लगा और फिर मैंने अपनी रफ़्तार ताज कर उसके लंड को अपने मुंह में पूरा घुसेड कर चूसने लगी ऊपर नीचे करते हुए और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे मुंह में अपना लंड पेलने लगा | उसके बाद उसने मेरी चूत में अपने लंड को डाल दिया और चोदने लगा धक्के मारते हुए और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मदहोश होने लगी | कुछ देर के बाद उसने अपनी चुदाई तेज कर दिया और जोर जोर से मेरी चूत को चोदने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी गांड उचका उचका कर चुदवा रही थी | फिर उसने मुझे घुमा दिया और मेरी चूत में लंड डाल कर चोदने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए चुदाई के मजे लेने लगी | करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद उसने अपना माल मेरी गांड के ऊपर ही झड़ा दिया |

तो गाइस ये थी मेरी दास्तान | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप लोगो ने मेरी कहानी पढ़ कर मुट्ठ तो जरुर मारे होगे |


Comments are closed.