बड़ा हुआ तो सीधा चोदा भाभी को

Bada hua to sidha choda bhabhi ko:

sex stories in hindi, bhabhi sex story मेरा नाम संजय डेविड है और मैं कांचघर में रहता हूँ | दोस्तों आज मौसम बहुत रंगीन है हमारे यहाँ का तो मैंने सोचा कि क्यूँ न आप लोगो के मौसम को भी रंगीन बना दिया जाए एक प्यारी सी चुदाई की कहानी लिख कर | दोस्तों मैंने अपनी जिन्दगी में बहुत चुदाई किया हूँ और कई लोगो की गांड भी मारा हूँ पर आज जो मैं कहानी लिखने जा रहा हूँ ये मेरे लिए बहुत अनोखी कहानी है | वैसे दोस्तों मैं दिखने में सांवला हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 11 इंच है और मेरे लंड का साइज़ सुन कर आप खुद समझ जाओगे कि मैने कितने जनो की चूत का भोसड़ा बनाया होगा | मेरे लंड का साइज़ 8 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है | आप लोग ये सोच रहे होगे कि मैं झूट बोल रहा हूँ पर दोस्तों मैं एक दम सच बोल रहा हूँ ये मैंने खुद से ही नापा हुआ साइज़ है | आप चाहो तो आप भी चेक कर सकते हैं | मैं दिखने में अच्छा हूँ और मेरा बदन भी हट्टा कट्टा है | इसीलिए मुझसे भले ही लडकिय एक या दो पटी हों लेकिन मुझसे सबसे ज्यादा भाभियाँ पटी हैं | आज मैं आप को एक भाभी की चुदाई के बारे में ही कहानी लिख कर बताने जा रहा हूँ तो अब मैं कहानी पर आता हूँ |

मेरे घर में मेरे मम्मी पापा , एक भाई और एक बहन हैं जिनमे से मैं सबसे छोटा हूँ | सबसे छोटा हूँ इसलिए मैं ही सबसे ज्यादा बिगड़ा हुआ हूँ | मैंने स्कूल के समय में ही सिगरेट पीना शराब पीना चालू कर दिया था क्यूंकि मेरे घर वालो ने मुझे बोर्डिंग स्कूल में डलवा दिए थे | उन्हें लगा कि कहीं मैं बाहर की संगती में बिगड़ ना जाऊ लेकिन उन्हें क्या पता कि मैं तो वहां रह कर ज्यादा बिगड़ जाऊंगा | वो तो यही समझते रहे कि उनका बेटा अच्छे से पढ़ाई करता होगा और अच्छे से रहता होगा पर यहाँ तो मैं अपने दोस्त लोगो के साथ मस्त सिगरेट दारु के नशे में टुन्न रहता था लेकिन हाँ मैं पढाई के मामले में अच्छा था | क्यूंकि मैं भले ही नशा करता था लेकिन पढाई भी करता था क्लास में जो भी पढ़ाई होती थी वो मैं बड़े ध्यान से करता था | इसीलिए मैं कभी फ़ैल नही होता था | जब मेरा स्कूल खत्म हो गया और बारहवी पास कर के कॉलेज जाने वाला था | मैं अपने दोस्तों से नही बिछड़ना चाहता था लेकिन क्या करे एक न एक दिन तो सभी को एक दुसरे से दूर ही होना पड़ता है | जब मैं स्कूल से वापस घर आया तो मुझे अपने दोस्तों की बड़ी याद आती थी और मैं बस यहाँ पर बियर ही पीता था क्यंकि मैं नहीं चाहता था कि मेरे घर में किसी को पता चले कि मैं ये सब भी करता था वहां | मेरे घर के बगल में एक भाभी रहती हैं जिनका नाम अर्चना है और वो दिखने में बहुत ही सुन्दर है और उसका पति आर्मी में जॉब करता है और उसके दो बच्चे हैं जो कि स्कूल में पढ़ते हैं | वो भाभी अक्सर हमारे घर आया करती थी और उस समय उनकी नयी नयी शादी हुई थी और मैं छोटा था तो वो मुझे गोद में ले कर खिलाया करती थी जब भी मैं स्कूल से घर जाता था तो |

अब मैं बड़ा हो गया तो वो मुझसे उतना बात नही करती | एक दिन कि बात है मैं घर में ही बैठा था कि मम्मी ने कहा कि बेटा जा अर्चना भाभी के यहाँ से एक दो सामान ले आ | मैंने कहा ठीक है | जब मैं उनके घर गया तो वो नहा कर निकली ही थी और उन्होंने बस लाइट रेड कलर का गाउन पहना हुआ था जिसमे से उनके दूध और गांड का शेप साफ नजर आ रहा था | ये देख कर मैं उन्हें घूर घूर कर देखने लगा | वो भी शर्माते हुए पूछने लगी कि क्या देख रहे हो ? तो मैंने भी बिना डरे कह दिया कि आपको और आपकी खूबसूरती को देख रहा हूँ | तो वो शर्मा गई और हंसने लगी | मैं घर के अन्दर गया और सीधा उसका हाँथ पकड़ लिया | तो उसने भी विरोध नही किया और कहा कि अभी नहीं थोड़ी देर से आना आर्यन को खाना खिलाना है | मैंने कहा ओके और वो सामान ले कर गया आ गया | फिर मैं भी खाना खाने के बाद फिर से उसके घर गया और वो उस समय मेरा ही इन्तेजार कर रही थी | मैंने जाते ही साथ उसे अपनी बांहों में ले लिया और सहलाने लगा उसके शरीर को तो वो भी मेरे शरीर पर अपने हाँथ से सहलाने लगी | फिर मैंने उसके होंठ में अपने होंठ रखकर उसके होंठ को चूसने लगा और वो भी मेरा साथ देते हुए मेरे होंठ को चूसने लगी | मैं उसके होंठ को चूसते हुए उसके दूध भी मसल रहा था और वो मेरे होंठ को चूसते हुए मेरे गांड पर बार बार हाँथ मार रही थी | हम दोनों ने एक दुसरे को काफी देर तक किस किया |

उसके बाद मैंने उसके गाउन को उतार दिया और उसके दूध को मसलने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करटे हुए सिस्कारियां लेने लगी | फिर मैंने उसके ब्रा को उसके बदन से निकाल फेंका और उसके दोनों दूध को अपने मुंह में ले कर दबा चूस रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे चेहरे पर हाँथ फेर रही थी | मैं उसके दूध को जोर जोर से मसल रहा था और होंठ से निप्पलस को खींच खींच कर चूस रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे ले रही थी | उसके बाद मैंने उसकी पेंटी को भी उतार दिया और उसकी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मदहोश होने लगी | मैं उसकी चूत को चाटते हुए चूत के दाने को भी होंठ में दबा कर चूसने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे मुह को अपनी चूत पर दबाने लगी | फिर मैंने ही अपने कपडे उतार दिया और उसके सामने लंड लटका कर खड़ा हो गया | वो तुरंत मेरे लंड को अपने हाँथ में ले कर हिलाने लगी और अपनी जीभ से चाटने लगी तो मेरे मुंह से भी आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिस्कारियां निकलने लगी | वो मेरे लंड पर अपनी जीभ को आगे पीछे ऊपर नीचे करते हुए चाट रही थी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे ले रहा था |

उसके बाद उसने मेरे लंड को अपने मुंह में ले कर लंड के सुपाडे को चूसने लगी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके दूध को मसलने लगा | फिर उसने मेरे लंड को अपने मुंह के अन्दर ले कर जोर जोर से आगे पीछे करते हुए चूसने लगी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे ले रहा था | अब मेरा लंड उसकी चूत को चोदने के लिए एक दम तैयार था | मैंने उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया और चोदने लगा शॉट लगाते हुए और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए चुदाई के मजे लेने लगी | फिर मैंने अपनी चुदाई तेज कर दिया और जोर जोर से शॉट लागते हुए उसे चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी गांड उचका उचका कर चुदवाने लगी | फिर मैंने उसे घोड़ी बना दिया और उसके पीछे जा कर अपने लंड को थूक से गीला किया और फिर उस्की चूत में डाल कर चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी गांड आगे पीछे करते हुए चुदवाने लगी | करीब 40 मिनट के बाद मैंने अपना वीर्य उसके मुंह के ऊपर झड़ा दिया और वो मेरे लंड से पूरे वीर्य को अपने मुंह पर लगाने लगी |

तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी |


Comments are closed.