आंटी के साथ सेक्स का रोमांच

Aunty Ke Sath Sex Ka Romanch :

loading...

यह कहानी आप फ्री हिंदी सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे है| मेरा नाम सुजीत सिंह है और मै दुर्गापुर में रहता हूँ, अब मै अपने साथ हुई घटना बताता हूँ की किस तरह मैंने आंटी के साथ चुदाई करी| उस वक़्त मेरी उम्र १८ साल की थी और उसी समय मेरे घर के पास एक आंटी रहने के लिए आई|

आंटी दिखने में बहुत सेक्सी थी, उनको देखकर ऐसे ही लंड खड़ा हो जाता था| आंटी की उम्र करीब ३० की होगी, एक दिन उनके घर में कोई मेहमान आया हुआ था तो उन्होंने मुझे बुलाया और कहा बेटा जाकर मार्किट से कोल्ड्रिंक लेकर आओ| मै मार्किट से गया और उनके लिए कोल्ड्रिंक लेकर आ गया|

जैसे ही मै दरवाजे के पास गया मुझे आंटी के कराहने की आवाजे आ रही थी, मै खिड़की से छुपकर सब कुछ देखने लगा, मैंने देखा उस आदमी का लंड आंटी के चूत में घुसा हुआ था और वो बहुत तेज़ी से आंटी के चूत में धक्के दे रहा था, यह सब देखकर मेरा भी लंड खड़ा हो गया, मैंने फ़ौरन अपना मोबाइल फ़ोन निकाला और उनकी चुदाई का विडियो बनाने लगा| उनलोगों की चुदाई करीब ३० मिनट तक चली और मेरे पास भी आंटी के ३० मिनट का ब्लू फिल्म बन गया|

अब मै अक्सर उस ब्लू फिल्म को देखकर मुठ मारा करता था, एक दिन मैंने सोचा क्यूँ न आंटी को वो ब्लू फिल्म दिखाकर ब्लैकमेल किया जाये और उनकी जबरदस्त चुदाई की जाये, यह सोचकर ही मेरे मन में लड्डू फूटने लगा और मै जैसे ख़ुशी से पागल होने लगा, मै मौके की तलाश में रहने लगा की कब मौका मिले और आंटी को वो ब्लू फिल्म दिखाकर चोदु|

आखिरकार मुझे वो मौका मिल ही गया, एक दिन आंटी दोपहर में घर पर अकेली बैठी थी मैंने उनके पास गया और डायरेक्ट कहा आंटी मुझे आपकी चुदाई करनी है, मेरी बात सुनकर वो जैसे सन्न रह गयी, वो बोली क्या बक रहे हो सुजीत? फिर मैंने मोबाइल निकालकर उस अनजान अंकल और उनकी चुदाई का विडियो दिखा दिया|

विडियो देखकर वो जैसे सन्न रह गयी, मै समझ गया की अब उनके पास कोई चारा नहीं है, मैंने अपना हाथ उठाया और उनके बूब्स दबाने लगा, पहले तो उन्होंने रोकने की कोशिश की लेकिन फिर वो भी मेरा साथ देने लगी, मैंने उनकी साड़ी अपने हाथों से उतार दी अब वो ब्रा और पैंटी में थी,

मै ब्रा के ऊपर से ही उनकी चुचियों को मसलने लगा, और वो मादक आवाजें निकालने लगी, आह उह आह की आवाजें पुरे कमरे में गूंज रही थी, फिर मैंने उनकी पैंटी निकाल दी और उनकी चूत पर हाथ फेरने लगा, उन्होंने मेरा सारा कपड़ा अपने हाथों से निकाल दिया और मेरे लंड पकड़कर सहलाने लगी और चूसने लगी. ऐसा लग रहा था जैसे मेरा लंड, लंड न होकर केला हो|

अब मैंने अपना लंड उनके मुहं से निकाला और उनकी चूत को चाटने लगा, उनके चूत के रस में क्या गज़ब का स्वाद था, अब मैंने अपना लंड उनकी चूत पर रखा और एक जोर का झटका लगाया, एक ही झटके में पूरा लंड उनकी चूत के अंदर चला गया, उनकी आह निकल गयी, अब मैंने आंटी को अलग अलग पोजीशन से खूब चोदा, उस दिन हमलोगों ने करीब ३ बार चुदाई की|

अब मै और आंटी मौका मिलते ही चुदाई कर लेते है| अगली कहानी में आप लोगो को बताना चाहता हूँ की किस तरह मैंने आंटी की गांड भी मारी, तब तक के लिए आप लोग जाइये और मुठ मारिये और इस कहानी को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे|

थैंक यू……


Comments are closed.