अनजान बना दोस्त और हुयी मस्त चुदाई

Anjan bana dost aur hui mast chudai:
हैल्लो दोस्तों, कैसे हैं आप सभी ? मैं आशा करती हूँ की आप सभी अच्छे होंगे और सब कुशलमंगल होगा | मेरा नाम प्रगति है और मैं बनारस में रहती हूँ | मेरी उम्र 21 साल है और मैं अभी कॉलेज की पढाई कर रही हूँ | मैं दिखने में सांवली हूँ और मेरा फिगर भी सेक्सी है | मेरे दूध और गांड दोनों ही परफेक्ट साइज़ के हैं | मेरे घर में मैं और मेरी मम्मी रहते हैं और पापा दिल्ली में जॉब करते हैं | हमारी छोटी सी फॅमिली है और हम खुश रहते हैं | दोस्तों आज जो कहानी मैं आप लोगो के समाने पेश करने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की सच्ची घटना है | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सभी को मेरी ये कहानी पसंद आयगी | तो अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय ना लेते हुए सीधा कहानी पर आती हूँ |
मेरे पास स्कूटी नही है तो मुझे बस से ही कॉलेज जाना पड़ता है | जब मैं बस में सफ़र करती हूँ तो कभी कभी मुझे खड़े हो कर भी कॉलेज जाना पड़ता है | बस में भीड़ की वजह से मुझे कई लड़के छेड़ते भी है और कुछ तो सिर्फ बहाना ढूँढ़ते हैं मेरे दूध को दबाने का और मेरी गांड में लंड घुसाने का | मेरी गांड में जब कोई लंड टच करता है तो मुझे बहुत अच्छा लगता है और सिहरन सी पूरे शरीर में दौड़ जाती है | मैं ऐसा नाटक करती हूँ जैसे मुझे कुछ पता ही नही है और मजे लेती हूँ | मैं भी कभी मौका नही छोडती किसी के लंड पर हाँथ मारने का और जब किसी को लगता है कि मैंने जानबूझकर किया है तो सॉरी बोल देती हूँ और अपना पल्ला झाड लेती हूँ | मैं घर में ब्लू फिल्म देख कर अपनी चूत चोद लेती हूँ और चूत का पानी निकाल लेती हूँ | मेरी जिन्दगी में यही सब चल रहा था कि एक लड़का मेरी जिन्दगी में आया | उसका नाम अंकित है और वो देखने में गोरा है उसकी कद काठी बहुत सॉलिड है | वो हमारे घर के समाने रेंट से नया नया रहने आया था | मैं उसे देख कर पहली बार में ही फ़िदा हो गयी थी | मैं उसे लाइन देती थी पर वो मुझ पर ध्यान नही देता था | मुझे लगता था कि वो रुड होगा | क्यूंकि मैं उसे इतना लाइन देती थी पर वो मेरी तरफ एक बार भी नही देखता था | एक दिन की बात है कि मैं बस स्टॉप पर खड़ी थी कि तभी अंकित मेरे समाने से निकला तो मैंने उन्हें आवाज़ दी और उससे कहा कि मुझे घर तक छोड़ दो न बस को आने में टाइम है | तो उसने मुझसे कहा कि ठीक है छोड़ देता हूँ | उसके बाद मैं उनकी बाइक पर बैठ गयी और अपने दूध को उनकी पीठ में दबाने लगी | फिर मैंने उनसे नाम पूछा और अपना नाम बताया और ऐसे ही नार्मल बात करते हुए चलने लगे | फिर जब हम घर पंहुचे तो मैं गाड़ी से उतर के उन्हें थैंक यू कहा | फिर मैं अपने घर चले आई | अब हम दोनों की अच्छी दोस्ती हो गई | अब मैं जब भी मौका मिलता तो उनसे बात करती रहती | मेरी मम्मी को नही पता था कि मैं उनसे बात करती हूँ | धीरे धीरे वो मुझसे पट गए | अब हम दोनों मौका मिलने पर किस कर लेते थे |
एक दिन मेरा घर खाली था तो मैंने उन्हें अपने घर बुलाया और जैसे ही वो मेरे घर आये तो मैंने तुरंत दरवाजा बंद कर के उन्हें अपनी बांहों में भर लिया और उन्हें सहलाने लगी | वो भी मुझे सहला रहे थे | उसके बाद मैंने उनके होंठ में अपने होंठ रख दी और उनके होंठ को चूसने लगी साथ में उनके लंड को पेन्ट के ऊपर से दबाने लगी | वो भी मेरा साथ देते हुए मेरे होंठ को चूस रहे थे और मेरे दूध को दबा रहे थे | उसके बाद उन्होंने मेरे टॉप को उतार दिया और ब्रा के ऊपर से ही मेरे उभारो को दबाने लगे तो मेरे मुंह से आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ की सिस्कारिया निकलने लगी |
फिर उन्होंने मेरी ब्रा को भी उतार दिए और दोनों दूध को अपने मुंह में ले कर चूसने लगे बारी बारी से तो मियन आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए उनके लंड को मसलने लगी | वो काफ़ी जोर जोर से मेरे दोनों दूध को दबा कर चूस रहे थे और मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए सिस्करिया ले रही थी | फिर उन्होंने मुझे बेड पर लेटा दिए और मेरी जीन्स के बटन खोल कर खींच कर उतार दिए | फिर उन्होंने मेरी पेंटी को उतार कर अपनी जीभ से मेरी चूत को चाटने लगे और मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए सिस्कारिया लेने लगी | वो मेरी चूत को जीभ से रगड़ कर चाटने लगा तो मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए उनके सिर को अपनी चूत में दबाने लगी | मेरी चूत को चाटने के बाद उन्होंने ऊँगली से चोदना शुरू कर दिया तो मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए आँख बंद कर के सिस्कारिया ले रही थी | फिर मैंने उनके शर्ट के बटन को खोल दिया और पेन्ट भी उतार दी और अंडरवियर को उतार कर जमीन में घुटने टेक कर बैठ गयी | अब मैं उनके लंड को हिलाते हुए चाटना शुरू की थी उनके मुंह से भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ की सिस्कारिया निकलने लगी | मैं उनके लंड को बहुत अच्छे से चाट चाट कर तर कर रही थी और वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए सिस्कारिया ले रहे थे | उनके लंड को चाटने के बाद मैंने अपने मुंह में ले कर चूसने लगी तो वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए मेरे सिर को पकड़ लिए | मैं जोर जोर से आगे पीछे करते हुए उनके लंड को चूस रही थी और वो भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए मेरे मुंह की चुदाई करने लगे | करीब मैंने उनके लंड को 15 मिनट तक चूसी थी | फिर उन्होंने मुझे लेटा दिया और अपना लंड रगड़ने लगे मेरी चूत पर और फिर एक ही झटके में पूरा लंड डाल दिए | अब वो मेरी चूत को धक्के मारते हुए चोदने लगे और मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए मदहोश होने लगी | मैं एक बार झड़ चुकी थी और उनके चोदने से पूरे कमरे से फचफच की आवाज़ आने लगी थी | फिर उन्होंने अपनी चुदाई की स्पीड बढ़ा दिए और जोर जोर से धक्के मारते हुए चोदने लगे | मैं भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए अपनी गांड उठा उठा कर चुदवाने लगी | वो काफी अच्छे से मेरी चूत चोद रहे थे और मैं भी उनका साथ दे रही थी | उसके बाद मैंने उन्हें लेटा दिया और उनके ऊपर चढ़ कर लंड अपनी चूत में डाल कर उचकने लगी और मेरे मुंह से आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ की सिस्कारिया लेने लगी | वो भी जोर जोर से नीचे से से धक्के लगाते हुए चोद रहे थे और मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए मजे ले कर उचक रही थी | करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद उन्होंने मेरी चूत में ही अपना माल झड़ा दिया | उसके बाद हम दोनों अपने आप को ठीक किया और अब हमे जब भी मौका मिलता तो हम चुदाई कर लेते हैं |
तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सभी को मेरी ये कहानी जरुर पसंद आई होगी |


Comments are closed.