अमेरिका में गैंगबैंग का मजा

America me gangbang ka maja:

chodan

हेल्लो दोस्तों, मेरा नाम आशीष है और मैं हरयाणा से हूँ | मैं Free Hindi Sex Stories का पुराना पाठक हूँ | मई अक्सर यहाँ पर आकर कहानियां पढ़ता हूँ और मुठ मारता हूँ | अभी मई कल की कहानी पढ़ रहा था की मेरे मैन में ख्याल आया की क्यूँ न मैं भी अपनी कहानी सुना दूं आप लोगों को | मुझे यकीन है की ये कहानी पढ़ के आप लोगों का लंड खड़ा हो जाएगा |

दोस्तों बात लगभग 2 साल पुरानी है | मेरा एक दोस्त है रजत | वो अमेरिका में रहता है और वहां एक प्लम्बर का काम करता है | उसने मुझे बोला की मैं भी वहां आ जाऊं तो अच्छे पैसे कमा सकता हूँ | उसके बहुत कहने पर मैंने पैसों का जुगाड़ किया और कैसे भी अमेरिका पहुँच गया | रजत ने मेरी नौकरी भी अपनी ही कंपनी में लगवा दी | अब हम दोनों अक्सर साथ में जाया करते थे काम करने | वहां की गोरी लड़कियों और औरतों को देखकर मेरा लंड खड़ा हो जाया करता था लेकिन कोई चारा भी नही था इसीलिए मन मसोस कर रह जाता था |

एक दिन की बात है | एक लेडी ने हमारी कंपनी को कॉल किया और कहा की उसके किचन की टंकी सही से काम नही कर रही | मैं और रजत दोनों साथ में गए उस काम के लिए | हम दोनों ने जैसे ही घंटी बजाई, एक हॉट सी औरत ने दरवाजा खोला | उम्र वही कोई 30 के आस पास होगी उसकी | गोरा बदन और मस्त फिगर.. क्या लग रही थी वो | मेरा तो उसे देखते ही लंड खड़ा हो गया | उसने फिर हमें किचन वाली प्रॉब्लम के बारे में बताया और दरवाजा बंद करके हम दोनों को किचन की तरफ ले गयी | उसने बताया की किचन का सिंक (जिसमे पानी गिरता है) काम नही कर रहा सही से | रजत कम पर लग गया और मैं उसके पास ही खड़ा होकर देखने लगा | थोड़ी देर बाद रजत बोला की अब चला कर देखो टंकी | उस औरत ने टंकी चलायी लेकिन अभी भी दिक्कत वैसी ही थी | फिर वो निचे की ओर झुकी और रजत को दिखाने लगी की दिक्कत कहाँ पर हो सकती है | जैसे ही वो झुकी, रजत की निगाह उसके बूब्स पर पड़ी और मेरी नजर उसकी गांड पर | मैं रजत को देख रहा था इसीलिए मैं समझ गया की उसके भी अरमान जाग गये हैं | उस औरत ने टी-शर्ट और शोर्ट स्कर्ट पहन रखी थी इसीलिए जब वो झुकी, उसकी पैंटी और उसके चुतड साफ़ साफ़ दिखने लगे | क्या मस्त चुतड थे उसके.. गोल गोल.. गोरे गोर | मैंने बड़ी मुश्किल से कण्ट्रोल किया लेकिन रजत जब उसके बूब्स की तरफ देख रहा था तो वो समझ गयी | उसने बोला “फर्स्ट डू योर वर्क. देन वे कैन डू दिस टू.” मतलब की पहले अपना काम कर ल्लो, फिर ये भी कर लेंगे | उसका ये कहना तो जैसे जन्नत मिल गयी हो हम दोनों को |

फिर मैं भी लग गया और हम दोनों ने ५ मिनट में सिंक सही कर दिया | अब बारी थी दुसरे काम की | वो औरत बोली तुम लोगों ने ये काम इतनी जल्दी किया है तो इनाम तो बनता है | इतना कह कर वो हमें अपने बेडरूम में ले गयी | फिर उसने कमरे का दरवाजा बंद कर दिया और हमारे पास आकर खड़ी हो गयी | अब उसने वो किया जिसका हम दोनों में से किसी को भी अंदाजा नही था | उसने अपने दोनों बूब्स टीशर्ट में सी निकल दिए और बोली की लो, अब जितना मैन हो देख लो इन्हें और जो मन हो कर लो | हम दोनों तो ऐसे खुश हो गए जैसे दुनिया की सबसे बड़ी ख़ुशी मिल गयी हो |

रजत ने उसके बूब्स को सहलाना शुरू कर दिया और मैं वहीं खड़ा था | उसने मुझसे बोला की मुझे पता है तुम मेरे चूतड़ों को देख रहे थे, तुम भी उन्हें जो चाहे कर सकते हो | बस फिर क्या था.. मैंने तुरंत उसके चुतड पकडे और दबाना शुरू कर दिया | वो मस्त होकर आह्ह.. ऊऊ.. कर रही थी | अब मैंने उसके चूतड़ों को सहलाते हुए उसकी पैंटी के अन्दर हाथ ले जाना शुरू किया और ऐसे ही उसकी गांड में एक ऊँगली डाल दी | वो चिहुंक पड़ी लेकिन उसने मना नही किया | थोड़ी देर ऐसे ही करने के बाद वो बैठ गयी जमीन पर और हम दोनों की पैंट खोल के लौड़ा हाथ में लेके सहलाने लगी | उसके बाद उसने मेरा लंड अपने मुंह में लिया और चूसने लगी |

दोस्तों मैं बता नही सकता की क्या नजारा था वो | अब वो हम दोनों के लंड को एक एक करके चूस रही थी और सहला रही थी | वो टट्टे भी चूस रही थी | उसका चूसने का तरीका क्या मस्त था.. हम दोनों को ही बहुत ज्यादा मजा आ रहा था | वो लंड को लेके उसके टोपे को मस्ती से ऐसे चूस रही थी जैसे की कोई लोलीपॉप हो | मैंने भी उसका सर पकड़ा और उसके मुंह को चोदना शुरू कर दिया |

थोड़ी देर ऐसे ही लंड चुस्वाने के बाद हम दोनों ने उसे लिटा दिया और उसके और अपने सारे कपडे उतर दिए | अब हम तीनो बेड पर आ गये | रजत ने उसकी चूत में ऊँगली करनी शुरू की लेकिन मेरा मन अभी और लंड चुस्वाने का था इसीलिए मैं उसके मुंह की तरफ गया और उसके मुंह में लंड डाल दिया | उधर रजत ने उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया | वो गरम हो रही थी और उतिनी ही मस्ती से मेरे लंड को चूस रही थी | वो सिसकियाँ तो लेना चाहती थी लेकिन मेरा लंड मुंह में होने की वजह से सही से आवाज नही निकल पा रही थी | उसके मुंह से बस ग्प्प्प..गप पप प पप पपप प पप प पप पप प्प्प्पप प ग्गग्ग्ग्ग गग गग  पप प प पप प पप प पप्पप प पप की आवाजें आ रही थी |

थोड़ी देर बाद वो बोली की मुझसे अब रहा नही जा रहा और मुझे अभी लंड चाहिए अपनी चूत में | रजत ने बोला आके मेरे लंड पर बैठ जा | रजत लेट गया और वो रजत की तरफ मुंह करके उसके लंड को अपनी चूत में लेने लगी | पहले तो वो थोडा सिसकियाँ ले रही थी लकिन जब लौड़ा पूरा अन्दर घुस गया तो वो मजे करने लगी और मस्ती से आह्ह ऊऊ उ ऊ इ इ ई ई ई इ इ ई इ ईईइ इ ईई आह ह्ह्ह ह हह ह ह हह ह ह ह ओह्ह्ह ह हह ह ह हह ह्ह्ह्हह ह ह ह ह ह्ह्ह्ह हह ह ह.. फक में.. फक मी हार्ड.. ओस एस.. आह्ह्ह्ह ह हह ह ह हू ई ई ईईई इ ईई इ ईई इ ऊऊ ई इ ई इ इ ईईई इ ई ईईईइ ईई ई ईईइ करने लगी |

अब मेरा मैन भी नही मान रहा था इसीलिए मैंने उसकी गांड में एक ऊँगली घुसेड दी | वो मेरा इशारा समझ गयी और बोली की आ जाओ तुम भी, मार लो मेरी गांड, चोद दो तुम दोनों मिल के आज मुझे | मैं तो खुश हो गया | अब मैंने उसकी गांड में थोडा थूक लगाया और अपना लंड घुसाने लगा | उसकी गांड टाइट थी | लग रहा था की शायद कभी गांड नही मरवाई इसने | बहुत जोर लगाने पर मेरा लंड आधा घुस गया उसकी चूत में | उसे दर्द तो बहुत हो रहा था लेकिन वो इतनी गरम हो चुकी थी की अभी वो हर दर्द झेल सकती थी | मैंने थोडा और जोर लगाया और उसकी उसकी गांड में अपना पूरा लंड पेल दिया | वो दर्द के मारे रो पड़ी | मैंने थोडा रहम किया और वहीँ रुक गया लेकिन मैंने लंड निकाला नही उसकी गांड से | जब वो थोडा नार्मल हुई तो मैंने धीरे धीरे लंड अन्दर बाहर करना शुरू किया | रजत का लंड पहले से उसकी चूत में था |

अब वो फिर से गर्म होने लगी थी | मैंने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी | वो अब जोर जोर से बोलने लगी आआअह्ह्ह ह ह हह ह हह हह ह हह हूऊ उ उ ऊ ऊऊ ऊ उ ऊऊ उई  इ ई ई ईई इ इ इ ओह यस.. फक मी हार्ड.. फक माय पुसी.. ओह एस.. ऊईइ इ ई इ ई इ ई इऊऊ  ओ ऊ ओऊ ऊ ओ ऊ ओ ओ ओह ह हह ह ह ह्ह्ह्ह ह हह ह ह्ह्ह्हह ह हह ह ह हह ह हह ह ह हह ह्ह्ह्ह ह हह ह ह्ह्ह्हह्ह हह हह ह ह्ह्ह ह्ह्ह हह ह ह ह ह.. फक माय ऐस.. ओह एस.. | हम दोनों उसकी जोरदार चुदाई कर रहे थे | जब रजत को लगा की उसका निकलने वाला है तो उसने उस औरत को उठने को बोला | अब मैंने उस औरत को घोड़ी बनाया और उसकी गांड में लंड पेलने लगा | इधर रजत ने मुठ मरकर उसके मुंह पर अपना सारा माल निकाल दिया | जब मुझे लगा की मेरा भी निकलने वाला है तो मैंने धक्कों की स्पीड और तेज कर दी |

थोड़ी देर बाद मैं भी झड गया और मैंने उसकी गांड में ही सारा माल निकाल दिया | वो लेडी इस चुदाई से इतनी खुश हुई की उसने हमे थोड़े पैसे एक्स्ट्रा दिए |

दोस्तों आशा है की आप लोगों को ये कहानी पसंद आई होगी |


Comments are closed.


error: