आई है बारात चुदो मेरे साथ

Aayi hai barat chudo mere sath:

desi sex stories

मेरा नाम राज है और मैं कॉलेज में पढ़ने वाला छात्र हूं। मेरा यह आखरी वर्ष है और मुझे फोटोग्राफी का बहुत अच्छा शौक है। जब भी मैं कोई ऐसी अलग चीज देखता हूं तो उसकी मैं फोटो खींच लेता हूं। तुरंत मैं उसकी फोटो खींच दिया करता हूं और उसे मैं अपने दोस्तों को भेज दिया करता हूं और अपने सोशल साइट्स पर अपलोड कर देता हूं। जिससे कि मेरे बहुत ज्यादा फॉलोवर भी बन चुके हैं और वह मेरी फोटो को बहुत ही पसंद करते हैं। मैं बहुत ही अलग तरीके की फोटो खींचा करता हूं। एक दिन हमारे कॉलेज में एक नई प्रोफेसर आई। यह शायद उनका पहला ही कॉलेज था और वह दिखने में बहुत ही सुंदर थी। उनकी उम्र ज्यादा नहीं थी इसलिए यह लग रहा था कि उनकी इस कॉलेज में पहली ही जॉइनिंग हुई है। जब वह पहले दिन हमारे क्लास में आए तो उन्होंने साड़ी पहनी हुई थी। वह साड़ी में बहुत ज्यादा सुंदर लग रही थी और मैं चाहता था कि उनकी फोटोस मैं खुद ही लू। इसलिए मैं उनकी फोटोएं छुप-छुपकर लेने लगा और मैंने उनकी फोटो की बहुत सारी कलेक्शन कर ली। अब हमें पढ़ाती भी बहुत अच्छे से थे और उनका नाम कामिनी था। जब भी वह हमारे क्लास में आती तो मैं उनकी क्लास हमेशा ही पढ़ा करता था और मुझे बहुत अच्छा लगता था उनकी क्लास पढ़ना।

एक दिन मैंने उन्हें अपनी सोशल साइट से फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज दी। उन्होंने कई दिनों तक मेरी फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट नहीं की और जब एक दिन उन्होंने मेरी फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली तो मैंने उसमें उनकी कुछ फोटो भी अपलोड की हुई थी। उन्होंने मुझे तुरंत मैसेज कर दिया और पूछने लगी तुमने यह फोटो कब ली। मैंने उन्हें बताया कि मैं आपकी फोटो छुप छुप कर लिया करता था। क्योंकि आप बहुत ही सुंदर हैं। इसलिए मुझे आपकी फोटो लेनी थी। वह मुझसे कहने लगी कि तुम एक काम करना, मुझे वह फोटो सारी सेंड कर देना। उन्होंने मुझे अपना नंबर दे दिया और मैंने उन्हें उनकी सारी फोटो सेंड कर दी। जब मैंने उन्हें फोटो सेंड की तो वह बहुत खुश हुई और उन्होंने मुझे थैंक्यू लिख कर मैसेज भेज दिया। अगले दिन जब मैं कॉलेज गया तो उन्होंने मुझे कैंटीन में बुला लिया। मैं उनके साथ कैंटीन में बैठा हुआ था और वह मुझसे बात कर रही थी। वह कहने लगी तुम फोटो बहुत ही अच्छी लेते हो और तुमने मेरी बहुत ही अच्छी फोटो ली है। मुझे बहुत अच्छा लगा।

अब वह मुझसे पूछने लगी तुम कब से फोटोग्राफी कर रहे हो। मैंने उन्हें कहा कि मुझे पहले से ही शौक था इसलिए मैं शौकिया तौर पर फोटोग्राफी कर लिया करता हूं। अब वह बहुत खुश हो गई और उन्होंने भी मुझसे अपने घर के बारे में बात शेयर कर ली। मैंने उनसे पूछा कि आपके घर में कौन है कौन है। वह कहने लगी कि मेरी शादी अभी कुछ समय पहले ही हुई है और मेरे पति एक सरकारी कर्मचारी हैं और वह बहुत ही बड़े पद पर हैं। मैं यह सब सुनकर बहुत खुश हुआ और वह भी मुझसे बात कर के बहुत ज्यादा खुश थी। अब मेरी कामिनी मैडम से बहुत ज्यादा बातें होने लगी। मैं जब भी उनकी फोटो खींचता तो उन्हें तुरंत ही उनके नंबर पर भेज दिया करता। कभी कबार मैं कुछ अच्छी फोटो भी उन्हें भेज दिया करता। अब वह मुझे बहुत ही पसंद करती थी। कॉलेज में जब भी वह आती तो हमेशा ही मुझसे बात किया करती थी। क्योंकि उनकी उम्र ज्यादा नहीं थी। इस वजह से वह भी अपने आप को एक स्टूडेंट ही समझती थी और मुझसे एक दोस्त की तरह बर्ताव किया करती थी। मैं भी अब उनके साथ खुलकर बातें करने लगा हूं और हम दोनों एक दोस्त की तरह ही रहने लगे। उन्होंने मुझे बताया कि मैंने पहली बार इसी कॉलेज में जॉइनिंग की है। एक दिन उनके पति उन्हें लेने कॉलेज आए हुए थे तो उन्होंने मुझे अपने पति से मिलाया। वह मुझसे मिलकर बहुत खुश हुए और वह कहने लगे कि तुमने मेरी पत्नी की बहुत अच्छी फोटो ली है। कभी हमारी भी फोटो ले लिया करो। उन्होंने मजाकिया अंदाज में मुझसे कहा। मैंने उन्हें कहा कि मुझे आपके घर आना पड़ेगा आपकी फोटोस लेने के लिए। क्योंकि आप तो एक बहुत ही बड़े अधिकारी हैं और आपके पास समय बिल्कुल भी नहीं होता। वह कहने लगे किसी दिन तुम हमारे घर पर आ जाना और उन्होंने कामिनी मैडम से भी कहा कि कभी राज को अपने घर पर बुला लो। यह कहते हुए वह लोग वहां से चले गए।

कामिनी मैडम और मेरे बीच में बहुत ही मधुर संबंध बन चुके थे और वह मुझसे बहुत ही अच्छे से बात किया करती थी। वह हमेशा ही मेरी तारीफ करती रहती मैं भी उनसे बहुत ही खुश रहता था। एक दिन वह क्लास में पढ़ा रही थी तभी अचानक से उनकी तबीयत खराब हो गई और वह मुझे कहने लगी कि मेरी तबीयत थोड़ा खराब हो रही है तुम क्या मुझे घर पर छोड़ सकते हो। मैंने उन्हें कहा मैं आपको अपने साथ आपके घर पर छोड़ देता हूं। अब मैं उन्हें अपनी बाइक पर बैठा कर घर ले गया। जब मैं उन्हें ले जा रहा था तो उनके बड़े बड़े स्तन मुझसे टकरा रहे थे। मेरा लंड खड़ा हो रहा था क्योंकि उनके यौवन का अलग ही बात थी उनकी गांड भी मुझसे टच हो रही थी। जब हम उनके घर पहुंच गए तो मैंने उन्हें अपने हाथो से उठाते हुए उनके बिस्तर पर सुला दिया। मैंने उनसे पूछा आपके पति को मैं फोन कर देता हूं। वह कहने लगी कि उन्हें फोन मत करो वह यहा पर है नहीं और बेकार में चिंता करने लगेंगे। अब वह ऐसे ही लेटी हुई थी और मैं उनके लिए पानी ले आया। जैसे ही मैं उन्हें पानी दे रहा था तो वह ग्लास उनके हाथ से छूट गया और उनके स्तनों पर गिर गया। मैंने जैसे ही जल्दीबाजी उनके स्तनों पर हाथ लगाया तो उनकी उत्तेजना बढ़ गई और उनका शरीर गर्म हो गया।

उन्होंने मुझे कहा कि तुम मेरे कपड़े चेंज करवा सकते हो। मैंने उनके कपडे खोले तो उनके स्तन मैने देखे वह बहुत ज्यादा गोरे थे। मैंने तुरंत उनके चूचो को अपने मुंह के अंदर समा लिया और उनकी साड़ी को ऊपर करते हुए। उनकी चूत के अंदर मैंने उंगली डाल दी। वह अपने आप को बेहतर महसूस कर रही थी और मैं ऐसे ही उनकी चूत मे उंगली डाले जा रहा था। अब उनसे रहा नहीं गया तो उन्होंने अपने दोनों पैर चौड़े करते हुए मुझे कहा कि तुम मेरी चूत मे अपने लंड को डाल दो। मैंने तुरंत ही अपने लंड को उनकी योनि में डाल दिया और जैसे ही मैंने उनकी योनि में डाला तो वह बड़ी तेज तेज सिसकियां लेने लगी। मुझे उनके यौवन का रसपान करते हुए बहुत ही मजा आ रहा था। मै उन्हें ऐसे ही झटके दिए जा रहा था और उनके मुंह से आवाज निकलती जाती। वह बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी और मुझे कह रही थी राज तुम्हारा तो बहुत ज्यादा मोटा लंड है मुझसे बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं हो रहा है। मेरे पति का तो बहुत ही छोटा सा है वह मेरी चूत के ऊपर ही घूमता रहता है लेकिन तुम्हारा तो मेरी चूत के पूरे जड़ तक जा रहा है और मुझे बड़ा मजा आ रहा है तुम्हारे साथ सेक्स करने में। यह बात मैंने सुनी तो अब मैंने उन्हें बड़ी तेज तेज धक्के देने शुरू कर दिए और उन्होंने भी बड़ी तेज आवाज मे चिल्लाना शुरु कर दिया।

वह मेरा पूरा साथ दे रही थी और मैं उन्हें उतनी ही तेजी से चोदने पर लगा हुआ था। अब मैंने उन्हें अपने लंड के ऊपर बैठा दिया जब मैंने उन्हें अपने लंड के ऊपर बैठाया तो वह अपनी चूतड़ों को बड़ी तेज तेज ऊपर नीचे करने लगी। मैने उनके स्तनों को अपने मुंह में ले लिया और उनके पतले-पतले होंठो को भी मैं चूसता जा रहा था। वह इतनी तेजी से अपने चूतडो को ऊपर नीचे कर रही थी कि मेरे लंड मे दर्द होने लगा। मेरा लंड बुरी तरीके से छिल चुका था लेकिन मुझे मज़ा भी उतना ही ज्यादा आ रहा था। वह भी बहुत ज्यादा मज़ा ले रही थी और मेरे लंड के ऊपर ऐसे ही ऊपर नीचे करने पर लगी हुई थी। उनक चूतडे बहुत बड़ी बड़ी थी मैंने उन्हें अपने हाथों में जब पकड़ा तो वह मेरे हाथों में बिल्कुल नहीं आ रही थी। मैं भी अब नीचे से बड़ी तीव्रता से धक्का मारने लगा लेकिन उनके चूत की गर्मी को मैं ज्यादा देर तक बर्दाश्त ना कर सका और मेरा वीर्य उनकी योनि में ही गिर गया। मैंने जैसे ही अपने लंड को बाहर निकाला तो वह बहुत खुश थी और उनकी तबीयत भी बहुत अच्छी थी।

 


Comments are closed.