आइये जी चूत चुद्वाइये जी

Aaiye ji chut chudwaiye ji:

indian porn kahani

मेरा नाम रोहित है और मैं हिसार का रहने वाला हूं। मेरी उम्र 30 वर्ष है और मेरी शादी को 7 वर्ष हो चुके हैं। मेरी पत्नी का रिलेशन मुझसे बहुत ही अच्छा है और मैं उससे बहुत प्रेम करता हूं लेकिन मैं अपनी नौकरी के सिलसिले में इधर-उधर रहता हूं। इस वजह से मैं उसे थोड़ा कम समय दे पाता हूं। हमारा एक छोटा सा बच्चा भी है जो कि अभी 3 वर्ष का है लेकिन कुछ दिनों से मेरी पत्नी का व्यवहार कुछ अच्छा नहीं चल रहा था और मैंने उससे इस बारे में पूछा भी कि तुम मुझसे कुछ दिनों से अच्छे से बात नहीं कर रही हो। तो वह कहने लगी कि ऐसी तो कोई भी बात नहीं है कि मैं तुमसे कुछ अच्छे से बात नहीं कर रही हूं लेकिन मुझे भी कुछ शक होने लगा था और मैं सोच रहा था कि वह कहीं कोई गलत कदम ना उठा ले। इसलिए मैंने जब उसके बारे में जानकारी जुटाई तो मुझे पता चला कि उसको पड़ोस में रहने वाले एक लड़के से चक्कर चल रहा था।

मैंने उससे इस बारे में बात की तो वह कहने लगी कि तुम मुझ पर फालतू में शक कर रहे हो। अगर तुम मुझ पर इस तरीके से शक करते रहे तो मैं कहीं घर से ना चली जाऊं। मुझे पहले लगा कि शायद ऐसे ही मुझे बोल रही होगी लेकिन एक दिन वह सच में पड़ोस में रहने वाले लड़के के साथ भाग गई। मैंने उसे बहुत ढूंढा लेकिन उसका कहीं पता नहीं चला। वह मेरे बच्चे को भी छोड़ कर चली गई थी। अब मुझे बहुत ज्यादा चिंता होने लगी कि वह कहां चले गए। इस बारे में मैंने उसके घर में बात की तो उसके पिताजी इस बात से बहुत आहत हुए और कहने लगे कि मैं तो यह बात सुनकर बहुत ही ज्यादा दुखी हूं लेकिन अब हम लोग कुछ कर भी नहीं सकते और ना ही हमारे पास सिवाय इंतजार करने के लिए कुछ बचा था।

उसके पिताजी ने मुझे कहा कि तुम्हें छोटे बच्चे की देखभाल के लिए तो दूसरी शादी करनी ही पड़ेगी और मेरे पिताजी भी मुझसे यही बात कह रहे थे लेकिन मैंने उन्हें साफ मना कर दिया और कहा कि मैं दूसरी से शादी नहीं करना चाहता लेकिन फिर जब मैं अपने छोटे बच्चों को देखता तो मुझे उस पर तरस आ जाता और मुझे लगने लगा कि मुझे दूसरी शादी कर लेनी चाहिए। मेरी पत्नी का नाम आरती था और उसकी एक छोटी बहन भी है उसका नाम सोभिता है। वह अभी कॉलेज की ही पढ़ाई कर रही है। उसके पिताजी ने मुझे कहा कि तुम शोभिता के साथ शादी कर लो। वह तुम्हारे बच्चे का अच्छे से ख्याल भी रख सकती है और उसे मां का प्यार भी दे सकती है लेकिन मैंने उन्हें कहा कि मुझे पहले शोभिता से इस बारे में बात करनी पड़ेगी। वह मुझसे शादी करना चाहती है या नहीं। जब मैंने शोभिता से बात की तो वह कहने लगी कि मेरा एक बॉयफ्रेंड है और मैं उससे बहुत प्रेम करती हूं।

मुझे उससे ही शादी करनी है। अब मैं दुविधा में था कि शोभिता से मेरी शादी हो नहीं सकती और न हीं यह मुझसे शादी करना चाहती है लेकिन शोभिता के पिता मुझसे उसकी शादी करवाना चाहते थे और मैं बहुत ज्यादा दुखी था। अपनी पत्नी के भाग जाने से। अब शोभिता मेरे घर आ जाया करती थी। क्योंकि मेरा छोटा बच्चा था। उसका ध्यान रखने के लिए कोई भी नहीं था। इसलिए वह आ जाया करती। जब वह उसे देखती तो वह भी यही कहती कि मेरी दीदी ने बहुत ज्यादा गलत किया है। उसे इस तरीके का फैसला नहीं लेना चाहिए था लेकिन उसे मुझ पर भी बहुत तरस आता था और कह रही थी कि मुझे आप को देख कर बहुत ही बुरा लगता है और कभी-कभी मैं सोचती हूं कि आपके साथ कितना बुरा हुआ है। मैंने इस बारे में शोभिता से भी कहा कि यदि तुम चाहो तो तुम मुझसे शादी कर सकती हो और मेरे बच्चे को मां का प्यार भी मिल जाएगा लेकिन वह भी मजबूर थी और उसे भी कुछ समझ नहीं आ रहा था लेकिन शोभिता के पिताजी शोभिता की शादी मुझसे करवाना ही चाहते थे। एक दीन शोभिता मेरे पास आई। वह मुझसे कहने लगी कि अब आप ही बताइए हमें क्या करना चाहिए। मैंने उसे कहा कि मैं तो यही चाहता हूं कि तुम मुझसे शादी कर लो। क्योंकि मुझे भी अपने बच्चों को देखकर बहुत ही ज्यादा दुख होता है। इसलिए मैं चाहता हूं कि तुम मुझसे शादी कर लो और उसकी देखभाल करो। शोभिता ने कहा कि मुझे कुछ समय दो। यदि मुझे लगेगा तो मैं आप को बता दूंगी। अब वह भी मुझसे हमेशा मिलने लगी और उसे मेरी आदत सी हो गयी थी। मुझे भी वह बहुत अच्छी लगने लगी। वह भी मुझ से प्रेम करने लगी और हम दोनों ने फैसला कर लिया था कि हम दोनों शादी कर लेंगे।

शोभिता भी मुझसे शादी के लिए तैयार हो चुकी थी। वह मेरे घर पर अक्सर आने लगी और वह मेरे बच्चे का ध्यान भी बहुत अच्छे से रखने लगी। मैं बहुत खुश होने लगा कि वह अब मेरे बच्चे का ध्यान भी रखने लगी है। एक दिन वह मेरे घर पर आई तो मैंने उसे कहा कि तुम थोड़ी देर बैठ जाओ मैं नहा कर आता हूं। मैं जैसे ही नहाने गया तो  वह कहने लगी कि मुझे बड़ी तेज टॉयलेट आ रही है। तुम उसके बाद नहाने चले जाना और जैसे ही वह  बाथरूम में गई तो मैं बाहर खड़ा था और उसने जल्दीबाजी में कुंडी भी नहीं लगाई। वह ऐसे ही अंदर चली गई जब वह अंदर गई तो मैंने जैसे ही दरवाजा खोला तो उसकी गांड मुझे दी गई उसकी गांड बहुत ही गोरी थी। मेरा मन उसे देखकर पूरा खराब हो गया क्योंकि मैंने काफी समय से किसी की चूत नहीं मारी थी। मैंने उससे कसकर पकड़ लिया और उसकी गांड को दबाने लगा मैंने अब अपने कच्छे को भी उतार दिया और मैं उसकी गोरी गोरी गांड पर अपने लंड को रगड़ने लगा। उसके स्तनों को भी मैं अपने हाथों से दबाता जाता। उसे भी बहुत अच्छा लग रहा था जब मैं उसके स्तनों को अपने हाथ से दबाए जा रहा था और वह बहुत ही खुश हो रही थी।

अब मैं उसे अपने कमरे में ले आया और मैंने उसे जब अपने बेडरूम में लेटाया तो उसके सारे कपड़े मैंने उतार दिए। उसका मन भी बहुत खराब हो गया और उसने मेरे लंड को चूसना शुरू कर दिया। वह बहुत  अच्छे से अपने मुंह के अंदर तक लंड को ले रही थी। वह इतना अच्छे से मेरे को चुसती कि मेरा पानी गिरने लगा और मैंने भी है उसकी चूत को चाटना शुरु कर दिया। मैं बहुत ही अच्छी से चूत चाट रहा था उसकी चूत गिली होने लगी। मैंने तुरंत ही उसकी योनि के अपने लंड को अंदर डाल दिया। जैसे ही मैंने उसकी टाइट चूत मे लंड डाला तो वह उत्तेजना में आ गई और मेरा साथ देने लगी। मैं उसे ऐसे ही चोदने पर लगा हुआ था। उसका शरीर गर्म होने लगा और मैं उसे झटके देने लगा। उसके शरीर से गर्मी निकलने लगी और वह अपने मुंह से आवाज निकालने लगी। मैं समझ गया कि यह उत्तेजना में आ चुकी है वह भी मेरा पूरा साथ दे रही थी और कुछ समय बाद मैंने अपने लंड को बाहर निकालते हुए उसके मुंह में डाल दिया। उसने मेरे लंड को बहुत ही अच्छे से चूसा। उसके बाद मैंने उसे घोड़ी बना दिया अब मैंने उसकी चूत मे अपने लंड को दोबारा से डाला तो उसकी योनि बहुत ही टाइट थी। जैसे ही मेरा लंड उसकी योनि में घुसा तो उसे बड़ा ही मज़ा आने लगा और मैं ऐसे ही उसे बड़ी तीव्रता से धक्के दिए जा रहा था। मैं उस तेजी से धक्के मार रहा था उसकी चूतडे  हिलने लगी और मुझे उसकी चूतडे देखकर बहुत ही मजा आ रहा था लेकिन मैंने उसे छोड़ा नहीं और ऐसे ही झटके देने पर लगा हुआ था। अब वह अपने मुंह से मदक आवाज में चिल्लाने लगी और मुझे कहने लगी आपने तो शादी से पहले ही मेरी चूत का भोसड़ा बना दिया बाद में तो पता नहीं क्या होगा। मैं उसके चूतड़ों पर तेज प्रहार करने लगा और उसकी चूतडे पूरी लाल हो गई उसे भी मजा आने लगा। वह भी अपनी चूतड़ों को मुझसे टकराने लगी और मैं भी उसके चूतड़ों पर बड़ी तेज तेज प्रहार करता जाता। जब मैं उसकी चूतडो पर झटके देता तो उसका शरीर पूरा गरम हो जाता। मुझे बहुत ही मजा आने लगा थोड़ी देर बाद मेरा माल उसकी योनि के अंदर ही गिर गया और वह बहुत ही खुश हो गई। कुछ समय बाद मेरी शोभिता से शादी हो गई और अब हम दोनों बहुत ही खुश हैं। वह मेरे बच्चे का भी ध्यान देती है।

 

 


Comments are closed.


error: